Monthly Archive: September 2019

जापान ने जर्मनी के विरूद्ध युद्ध की घोषणा 0

जापान ने जर्मनी के विरूद्ध युद्ध की घोषणा

जापान ने जर्मनी के विरूद्ध युद्ध की घोषणा जुलाई, 1914 में महायुद्ध आरम्भ हुआ । जापान भी इसमें सम्मिलित होना चाहता था । अतः उसने 15 अगस्त, 1914 को जर्मनी को चेतावनी दी कि...

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम 0

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम उसने विद्रोह समाप्त हो जाने के पश्चात् भी अपनी सेनाएँ उस क्षेत्र में ही रखी और ऐसा प्रतीत होता था कि वह उस क्षेत्र पर अपना स्थायी...

प्रथम चीन जापान युद्ध के क्या कारण थे ? 0

प्रथम चीन जापान युद्ध के क्या कारण थे ?

प्रथम चीन जापान युद्ध के क्या कारण थे ? अतः जब जापान ने कोरिया में वित्तीय, प्रशासकीय और सैनिक सुधारों के लिए संयुक्त चीन-जापानी कार्यवाही का प्रस्ताव रखा तो चीन नहीं चाहता था कि...

जापान में सैन्यवाद का उदय (Rise of Militarism in Japan) 0

जापान में सैन्यवाद का उदय (Rise of Militarism in Japan)

जापान में सैन्यवाद का उदय (Rise of Militarism in Japan) तोकूगावा वंश में 1630 ई० में इमीयासू प्रथम शोगुन नियुक्त हुआ । इसी समय से जापान की सरकार का स्वरूप सैनिक बन गया ।...

पोलैण्ड पर आक्रमण : द्वितीय विश्व युद्ध का आरंभ 0

पोलैण्ड पर आक्रमण : द्वितीय विश्व युद्ध का आरंभ

इस समझौते से वर्साय की सन्धि द्वारा स्थापित व्यवस्था की अन्त्येष्टि हो गई और सामूहिक सुरक्षा में विश्वास समाप्त हो गया। पोलैण्ड पर आक्रमण : द्वितीय विश्व युद्ध का आरंभ 1934 ई. में जर्मनी...

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग 0

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग उसने बहुत पहले ही घोषणा की थी कि “आस्ट्रिया की स्वाधीनता बहुत महत्त्वपूर्ण है । यदि आस्ट्रिया का पतन होता है, तो चेकोस्लोवाकिया की रक्षा नहीं की जा सकती है, तब...

हिटलर की साम्राज्यवादी नीति और म्यूनिख समझौता 0

हिटलर की साम्राज्यवादी नीति और म्यूनिख समझौता

हिटलर की साम्राज्यवादी नीति और म्यूनिख समझौता इस अतिक्रमण के सम्बन्ध में गेथोर्न हार्डी ने लिखा है कि इससे और कैफ का कार्यक्रम, महत्त्वपूर्ण सामरिक और आर्थिक लाभ प्राप्त हो जाने के कारण, पूर्ति...

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ? 0

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ?

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ? 1842-46 ई० के बीच चीन में लगभग सौ ९ हुए थे। इसी प्रकार टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन का...

बोल्शेविक क्रांति से रूस में क्या प्रभाव पड़ा ? 0

बोल्शेविक क्रांति से रूस में क्या प्रभाव पड़ा ?

बोल्शेविक क्रांति से रूस में क्या प्रभाव पड़ा ? बोल्शेविकों के भयंकर परनामी को लाल आतंक और उनके विरोधियों के कुकृत्यों को श्वेत आतंक जाता था। जुलाई 1918 में सम्राट निकोलस द्वितीय और उसक...

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता 0

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता निःशस्त्रीकरण की शर्त न केवल जर्मनी पर भी समस्त राष्ट्रों पर लागू की जानी चाहिये थी । जर्मनी के ज्ञापन में संधि-पत्र की। धारा को निकालने की बात कही गयी...