Category: Tips

शैक्षिक विकास के बहुस्तरीय ढाँचे के रूप में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (1988) का मूल्यांकन 0

शैक्षिक विकास के बहुस्तरीय ढाँचे के रूप में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (1988) का मूल्यांकन

शैक्षिक विकास के बहुस्तरीय ढाँचे के रूप में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (1988) का मूल्यांकन शिक्षा की उचित प्रबन्ध संरचना में अखिल भारतीय सेवा के रूप में भारतीय शिक्षा सेवा (I.E.S) की स्थापना की जायेगी...

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम 0

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम

रूस-जापान युद्ध वस्तुतः आंग्ल-जापानी सन्धि का परिणाम उसने विद्रोह समाप्त हो जाने के पश्चात् भी अपनी सेनाएँ उस क्षेत्र में ही रखी और ऐसा प्रतीत होता था कि वह उस क्षेत्र पर अपना स्थायी...

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग 0

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग

चेकोस्लोवाकिया का अंग-भंग उसने बहुत पहले ही घोषणा की थी कि “आस्ट्रिया की स्वाधीनता बहुत महत्त्वपूर्ण है । यदि आस्ट्रिया का पतन होता है, तो चेकोस्लोवाकिया की रक्षा नहीं की जा सकती है, तब...

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ? 0

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ?

टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन में होने वाले परिणामों का विवेचन कीजिये ? 1842-46 ई० के बीच चीन में लगभग सौ ९ हुए थे। इसी प्रकार टीटसिन की सन्धि के द्वारा चीन का...

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता 0

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता

निःशस्त्रीकरण की घोर असफलता निःशस्त्रीकरण की शर्त न केवल जर्मनी पर भी समस्त राष्ट्रों पर लागू की जानी चाहिये थी । जर्मनी के ज्ञापन में संधि-पत्र की। धारा को निकालने की बात कही गयी...