Rajathan History Quiz

दयानंद सरस्वती राजस्थान में सर्वप्रथम प्रवचन देने हेतु कहाँ पधारे थे?

1. दयानंद सरस्वती राजस्थान में सर्वप्रथम प्रवचन देने हेतु कहाँ पधारे थे?

.

दयानंद सरस्वती राजस्थान में सर्वप्रथम प्रवचन देने हेतु कहाँ पधारे थे?

Rajasthan Gk (राजस्थान सामान्य ज्ञान) से संबन्धित अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न

नाडौल की चौहान शाखा की स्थापना की-
मारवाड़ का भूला बिसरा नायक किसे कहते हैं?
भारत स्वतंत्रता अधिनियम की कौनसी धारा के अनुसार देशी रियासतों पर ब्रिटिश प्रभुसत्ता का अंत हो गया?
‘मारवाड़ रा परगना री विगत’ नामक ग्रन्थ किसने लिखा?
सम्राट पृथ्वीराज चौहान-तृतीय के पिता थे-
ए.जी.जी. जाॅर्ज पेट्रिक लॉंरेंस की सेना को आउवा के निकट किस स्थान पर 18 सितम्बर, 1857 को क्रांतिकारियों की सेना ने हरा दिया-
महाराणा प्रताप की छतरी है-
‘जीज मुहम्मदशाही‘ व ‘जयसिंह कारिका‘ नामक ज्योतिष ग्रंथ की रचना की-
सारंगपुर का युद्ध (1437 ई.) हुआ-
लोद्रवा को अपनी राजधानी किसने बनाया-
बीकानेर के प्रथम शासक जिन्होंने अकबर की अधीनता स्वीकार की-
भरतपुर रियासत के दीवान मैकेन्जी की दमनकारी नीति, पुलिस अत्याचार एवं मौलिक अधिकारों पर लाए गए प्रतिबंध के विरोध में ‘भरतपुर राज्य प्रजा संघ‘ की स्थापना किस वर्ष की गई-
‘अमरकास नाला‘ किस रियासत से संबंधित है?
महाराणा जैत्रसिंह के समय दिल्ली पर किस वंश का शासन था-
अमीर खां पिंडारी को टोंक का नवाब स्वीकार किया गया-
जैसलमेर के किस शासक ने नागौर दरबार में अकबर की अधीनता स्वीकार कर ली ?
किसके काल में चित्तौड़ में रणमल की हत्या हुई?
किस व्यक्ति के प्रयासों से उदयपुर में 1857 का विद्रोह नहीं हुआ ?
उस क्रांतिकारी का नाम बताइये जिसके बीकानेर आने पर महाराजा गंगासिंह ने रोक लगा दी थी?

dayanand saraswati rajasthanmen sarvpratham pravachan dene kaha padhare the, दयानंद सरस्वती राजस्थान में सर्वप्रथम प्रवचन देने हेतु कहाँ पधारे थे?, jodhpur me, जोधपुर, उदयपुर, udaipur me, करौली, karauli me, अजमेर, ajmer me,स्वामी दयानन्द सरस्वती की कहानी, स्वामी दयानन्द सरस्वती के विचार, स्वामी दयानंद सरस्वती विकिपीडिया, दयानंद सरस्वती के विचार,

स्वामी दयानन्द सरस्वती के राजनीतिक विचार, स्वामी दयानन्द सरस्वती पुस्तकें, महर्षि दयानंद सरस्वती जयंती, स्वामी दयानंद सरस्वती मराठी, महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती, स्वामी दयानन्द सरस्वती का योगदान , केशवचन्द्र सेन ब्रह्मसमाज, Maharishi Dayanand Saraswati, राजस्थान में चेतना जागृत करने में आर्य समाज की, स्वामी दयानंद राजस्थान में सर्वप्रथम 1865 ई. में करौली के राजकीय अतिथि के रूप में आए,

Leave a Comment