जसनाथी सिद्ध किस वृक्ष की सूखी लकड़ियों के धधकते अंगारों (धूणा) पर फतै-फतै बोलते हुए अग्नि नृत्य करते हैं?

जसनाथी सिद्ध किस वृक्ष की सूखी लकड़ियों के धधकते अंगारों (धूणा) पर फतै-फतै बोलते हुए अग्नि नृत्य करते हैं?

Rajasthan Gk Quiz

जसनाथी सिद्ध किस वृक्ष की सूखी लकड़ियों के धधकते अंगारों (धूणा) पर फतै-फतै बोलते हुए अग्नि नृत्य करते हैं?

Rajasthan Gk (राजस्थान सामान्य ज्ञान) से संबन्धित अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न

सनकादि सम्प्रदाय के प्रवर्तक कौन थे?
विचित्र मंदिर कहाँ पर स्थित है?
कौनसा नृत्य व्यावसायिक नृत्य है?
निम्न में से किस सम्प्रदाय में राधा-कृष्ण के युगल स्वरूप की पूजा की जाती है?
किस जाति के लोग भूरिया बाबा की झूठी कसम नहीं खाते है?
जोधपुर का छवरलाल गहलोत किस नृत्य के प्रसिद्ध कलाकार रहे है?
बाँसवाड़ा में दीपावली पर पुरुषों द्वारा नारी का रूप धारण करके किये जाने वाले नृत्य का क्या नाम है?
किलकिला तोप का संबंध जोधपुर के किस महाराजा से है?
तेज तलवार पर नृत्य करना किस नृत्य की प्रमुख विशेषता है?
तेरहताली नृत्य किस जाति द्वारा किया जाता है?
शुक्रनीतिकार के अनुसार जल दुर्ग से श्रेष्ठ दुर्ग किस दुर्ग को बताया गया है?
निम्न में से किस दुर्ग को ‘रेगिस्तान का गुलाब‘ कहा जाता है?
चित्तौड़गढ़ दुर्ग का सबसे अंतिम दरवाजा कौनसा है?
भारत का एकमात्र वह कौनसा दुर्ग है जहां पर तोप ढालने का संयत्र लगा हुआ है?
शरद मंदिर कहाँ पर स्थित है?
जयपुर के रूपसिंह शेखावत का सम्बन्ध किस नृत्य से है?

जसनाथी सिद्ध किस वृक्ष की सूखी लकड़ियों के धधकते अंगारों (धूणा) पर फतै-फतै बोलते हुए अग्नि नृत्य करते हैं?, jasnathi siddh kis vriksh ki sukhi lakadiyon ke dhadhakate angaron dhuna par fatte fatte bolte hue agni nritya karte he

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here